ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
प्रिंस नावेद खान का नया एलबम 'अखियां तो दूर' का पोस्टर लांच
August 15, 2019 • क़ुतुब मेल

मुंबई - अब एक और खान की एंट्री बॉलीवुड में हो चुकी है। ये खान हैं प्रिंस नावेद खान, जो तेलंगाना फ़िल्म इंडस्ट्री में अपनी कामयाबी का झंडा गाड़ने के बाद अपनी नई बॉलीवुड एलबम 'अखियां तो दूर' लेकर आ रहे हैं, जिसका पोस्टर उन्होंने अनाथ आश्रम में बच्चों के साथ लांच किया।

यह एक पंजाबी म्यूज़िक एलबम है, जिसको ए यू कयाल ने डायरेक्ट किया है। स्टार फॉक्स इंटरटेंमेंट,कशिश प्रोडक्शन और एम कुमार प्रोडक्शन प्रस्तुत यह एलबम अब रिलीज पर है। उससे पहले प्रिंस ने इसका फर्स्ट लुक अनाथालय में जारी किया और कहा कि वेलफेयर का काम करने में उनको दिल को तसल्ली मिलती है, इसलिए अपने हर काम में पब्लिक वेलफेयर के लिए वे वक़्त निकालते हैं।

प्रिंस का बॉलीवुड में ये दूसरा एलबम है। इससे पहले वे एक हिंदी गाना 'जरा जरा दिल धड़कने' रिलीज कर चुके हैं, जिसको दर्शकों ने खूब सराहा है। अब यह उनका दूसरा प्रोजेक्ट है, जिसके बारे में वे कहते हैं कि इस गाने की शूटिंग मुम्बई से कुछ दूर स्थित एक डैम पर हुई है। इसमें एलबम के प्रोड्यूसर धीरज कुमार और मनोज कुमार का भी उन्हें खूब सपोर्ट
मिला। तभी जाकर यह गाना पूरा हो पाया। अलबम में प्रिंस और सुकृति की जानदार केमेस्‍ट्री दर्शकों को नजर आने वाली है।

प्रिंस नावेद खान, बॉलीवुड के भाई जान यानी सलमान खान के बहुत बड़े फैन हैं और वे उन्हीं के नक्शे कदम पर चल कर वेलफेयर का काम करते हैं। इसके लिए उन्होंने एक वेलफेयर फाउंडेशन भी बना रखी है, जिसके तहत वे जरूरतमंद लोगों की मदद भी करते हैं। इस फॉउन्डेशन के तहत तेलंगाना में 500 लोग मदद पाते हैं और जब भी मौका मिलता है।

वे कहते हैं कि उन्हें ऐसा कर सुकून मिलता है, इसलिए वे अपनी कमाई का 50% गरीबों में दान करने वाले हैं। प्रिंस सलमान खान से इन्सपायर्ड होकर लोगों की मदद करते है। वहीं एक फैन के रूप में वे सलमान खान से एक बार मुलाकात की भी ख्वाहिश रखते हैं। साथ ही वे अपनी सक्सेस के पीछे अपने परिवार और दोस्तों के सपोर्ट को एडमिट करते हैं।

बता दें कि एलबम 'अखियां तो दूर' सिंगर और म्‍यूजिक बिक्रमजीत रांझा हैं और कोरियोग्राफर सनी गुलजार और सरगम हैं। पी.आर.ओ. संजय भूषण पटियाला हैं और को प्रोड्यूसर वर्ल्‍ड म्‍यूजिक परफेक्‍ट और गिलसन इंटरटेंमेंट।