ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
रक्षा क्षेत्र से जुड़ी खबरें देते समय राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति संवेदनशीलता बरते मीडिया
September 21, 2019 • क़ुतुब मेल

नयी दिल्ली - रक्षा संवाददाता प्रशिक्षण पाठ्यक्रम रक्षा मंत्रालय के जनसंपर्क निदेशालय द्वारा संचालित किया जाने वाला सबसे प्रतिष्ठित पाठ्यक्रम है। इस बार यह कार्यक्रम 26 अगस्त से 19 सितंबर, 2019 तक संचालित किया गया। इसमें देश भर से आए 32 पत्रकारों ने हिस्सा लिया। इस दौरान पत्रकारों को मुंबई में नौसेना और तटरक्षक बल, चंडीगढ़ और अम्बाला में वायुसेना तथा जम्मू-कश्मीर और दिल्ली राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र में थल सेना के बारे में विस्तृत जानकारी और प्रशिक्षण दिया गया।

रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद येसो नाइक ने मीडिया से रक्षा क्षेत्र से जुड़ी खबरें देते समय राष्ट्रीय सुरक्षा के प्रति संवेदनशीलता बरतने को कहा है। नाइक ने नई दिल्ली में रक्षा संवाददाता प्रशिक्षण पाठ्यक्रम (डीसीसी) 2019 में भाग लेने वाले मीडिया कर्मियों के विदाई समारोह को संबोधित करते हुए कहा कि पत्रकारों का काम है कि वे बेहद कठिन परिस्थितियों काम कर रहे तथा जरूरत पड़ने पर देश के लिए अपना सर्वोच्च बलिदान देने के लिए तत्पर रहने वाले सैनिकों की हौसला अफजाई करें।

रक्षा राज्य मंत्री ने पत्रकारों से अनुरोध किया कि वे सरकार और लोगों के बीच सेतु का काम करें। देश की समृद्धि के लिए यह बहुत जरूरी है। उन्होंने कहा कि सरकार  को जो जनादेश मिला है वह देश के नागरिकों के कल्याण के लिए

उन्होंने कहा, सरकार को मिला जनादेश नागरिकों के कल्याण के लिए निरंतर प्रयासरत रहने के लिए है। ऐसे में मीडिया का काम सरकार की नीतियों और कार्यक्रमों से लोगों को अवगत कराना है। उन्होंने कहा कि सरकार सशस्त्र बलों की बेहतरी के लिए हर संभव प्रयास करेगी।

प्रशिक्षु पत्रकारों को रक्षा संवाददाता का प्रशिक्षण पाठ्यक्रम सफलतापूर्वक पूरा करने के लिए बधाई देते हुए श्रीपद नाइक ने आशा व्यक्त की कि इस पाठ्यक्रम ने प्रशिक्षुओं को एक  बहुआयामी परिप्रेक्ष्य प्रदान किया है, जो उन्हें लोगों तक घटनाओं की सटीक जानकारी पहुंचाने में मदद करेगा। उन्होंने कहा, "हम सशस्त्र बलों के बारे में व्यापक जानकारी रखने वाले कुशल रक्षा पत्रकारों का एक पूल बनाना चाहते हैं।"

इस अवसर पर रक्षा राज्य मंत्री ने पाठ्यक्रम पूरा करने वाले प्रशिक्षु पत्रकारों को प्रमाण-पत्र और पदक बांटे।

पाठ्यक्रम में भाग लेने वाले पत्रकारों ने सशस्त्र बलों के वरिष्ठ अधिकारियों से बातचीत करने, अग्रिम सीमा क्षेत्रों को दौरा करने तथा सैन्य उपकरणों को नजदीक से देखने और उनके संचालन का अवसर प्रदान करने के लिए रक्षा मंत्रालय के जनसंपर्क विभाग (डीपीआर) को धन्यवाद दिया। उन्होंने कहा कि प्रशिक्षण कार्यक्रम के दौरान उन्हें सेना के बारे में जो कुछ सीखने का अवसर मिला है, उससे उनका दृष्टिकोण और व्यापक हुआ है।

इस अवसर पर भारत सरकार के पत्र सूचना कार्यालय के प्रधान महानिदेशक सीतांशु कार तथा रक्षा मंत्रालय के जनसंपर्क निदेशालय (डीपीआर) के (मीडिया और संचार) अपर महानिदेशक ए भारत भूषण बाबू सहित कई वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।