ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
"परिदृश्य चिन्तन के" जीवन को सकारात्मकता ऊर्जा से परिपूर्ण करने वाला लघुकथा संग्रह "
February 10, 2020 • सुरेखा शर्मा • साहित्य

'पुस्तक-परिदृश्य चिन्तन के 
लेखिका-डाॅ• मुक्ता ,पृष्ठ संख्या -152
प्रथम संस्करण-2019,मूल्य -250/-                                                                                                              प्रकाशक-दीपज्योति ग्रुप आॅफ पब्लिकेशन,महावीर मार्ग,अलवर-301001.
समीक्षक / साहित्यकार सुरेखा शर्मा        

'देखना है ग़र  मेरी उड़ान को
तो ऊँचा कर दो आसमान को।'                                                                                                                           इस विचारधारा के साथ लेखिका की लेखनी चली है एक चिंतक के रूप में।उनका मानना है कि इनसान  चिन्ता की जगह चिन्तन को यदि जीवन का मूलमंत्र स्वीकार कर ले, तो उसके जीवन में दु:ख, अवसाद व असफलता दस्तक दे ही नहीं सकते। ज़िन्दगी के दांव-पेंचों को बहुत निकटता से देखते हुए, समझते हुए, चिन्तन करते हुए लेखिका ने अपनी लेखनी के माध्यम से महापुरुषों  के वचनों को, सूक्तियों को, कहावतों व अनुभवों को आधार बनाकर 'परिदृश्य चिन्तन के' रूप में पुस्तक रूप में लिपिबद्ध किया है। एक-एक विषय जीवन का पाठ पढ़ाता है और जीवन में उतारने वाला अर्थात् अनुकरणीय है...और  जीवन को संवारने व सार्थक करने वाला है। प्रत्येक विषय समस्या का समाधान देेेकर, सहज छाप छोड़ जाता है।

'चिन्ता नहीं चिन्तन' उनके प्रथम निबंध-संग्रह के विषय में पद्मभूषण श्रद्धेय कवि नीरज जी के मतानुसार 'यह पुस्तक हर घर में होनी चाहिए।' उनके ही शब्दों मे---" आपकी कृति के एक-एक पृष्ठ को बड़े ध्यान से पढ़ा। इसका हर आलेख सही जीवन-निर्माण मेें सहायक सिद्ध हो सकता है । हर माता-पिता को इसे स्वयं पढ़कर अपने बच्चों को भी पढ़वानी चाहिए। जो इसका पठन करेेेगा, उसके जीवन में एक नई क्रांंति घटित होगी। यह पुुुस्तक समाज-हित में मील का पत्थर साबित होगी।"

 इसी प्रकार अखिल भारतीय हिन्दी सेवी संस्थान, इलाहाबाद से आदरणीय  श्री राजकुमार शर्मा लिखते हैं---"प्रेरणास्पद आलेखों से परिपूर्ण इस पुस्तक को प्रारम्भ से अंत तक, रात के तीन बजे तक  पढ़ता चला गया । न नींद आँखों में उतरी, न ही झपकी आई और न ही कुर्सी से उठकर कमर सीधी की। एक-एक शब्द मनो-मस्तिष्क में गहरे में पैठता चला गया ।"  आप स्वयं अनुमान लगा सकते है कि उनका प्रथम निबंध-संग्रह ही नहीं, द्वितीय संग्रह भी हमारे जीवन के लिए बहुत बड़ी धरोहर होगा। डाक्टर सुभाष रस्तोगी जी ने भी उस संग्रह को "जीवन के उच्चाशयों का रेखांकन " संज्ञा से परिभाषित किया है। इसी कड़ी में डा• रामेश्वर प्रसाद गुप्त (प्राचार्य ) दत्तिया (म•प्र•) से ने दोहों के माध्यम से पुस्तक की बहुत ही सहज ,सरल व सार्थक समीक्षा की है।बानगी देखिए -- 

 "जीवन में आए नहीं,बाधाएँ और  संत्रास।                                                                                                      कर्मशील बनकर रहो कभी न रहो उदास।।"

 "मुक्ता जी की सुकृति में ,मुक्ति हेतु विचार।
  ज्ञान भक्ति सत्कर्म का चिन्तन है साकार।।"                                                                                                  'परिदृश्य चिंतन के' कोई कहानी संग्रह, लघुकथा संग्रह, काव्य या गीत संग्रह की तरह, मनोरंजन  करने वाला संग्रह नहीं है, अपितु एक ऐसा अनूठा संग्रह है, जो ज़िंदगी की राह पर चलते हुए पग-पग पर मिलने वाले, कठिन से कठिन प्रश्नों का उपयुक्त हल ढूंढने की सामर्थ्य रख, जीवन की राह को आसान करने वाला है। इसीलिए मैथिली शरण गुप्त जी ने कहा भी है- ''केवल मनोरंजन ही कवि का न कर्म होना चाहिए।  उस में उचित  उपदेश  का भी मर्म  होना चाहिए।।"   

महिला महाविद्यालय में प्राचार्य पद से सेवानिवृत्त, पूर्व निदेशक, हरियाणा साहित्य अकादमी, पूर्व सदस्य केंद्रीय साहित्य अकादमी, साहित्य-सृजन में निरंतर रत, संवेदनाओं की गंभीरता संजोए... एक संवेदनशील सर्जक व गम्भीर चिंतक...माननीय राष्ट्रपति द्वारा सम्मानित, बहुमुखी प्रतिभा की धनी आदरणीय डाॅ मुक्ता बधाई की पात्र हैं। सो! मैं उनका अभिवादन-अभिनंदन व उनके प्रति आभार व्यक्त करती हूँ... 'परिदृश्य चिंतन के' जैसी अद्भुत, अद्वितीय व समजोपयोगी कृति के लिए...जो डॉ• मुक्ता का... सकारात्मक ऊर्जा से लबरेज़ दूसरा निबंध-संग्रह है। लेखिका एक ऐसी साहित्यकार हैं, जिन्हें पढ़कर कथा सम्राट् मुंशी प्रेमचंद के शब्द स्मृति-पटल पर स्वतः ही उभर आते हैं। उनके शब्दों में --'साहित्यकार या कलाकार स्वभावतः प्रगतिशील होता है। उसे अपने अंदर भी और बाहर भी एक कमी-सी प्रतीत होती है। इसी कमी को पूरा करने के लिए उसकी आत्मा बेचैन रहती है। इसलिए वे कहते हैं -- 'हमारी कसौटी पर वही साहित्य खरा उतरेगा, जिसमें उच्च चिन्तन हो, स्वाधीनता का भाव हो, सौन्दर्य का सार हो, सृजन की आत्मा हो, जीवन की सच्चाइयों का प्रकाश हो, जो हममें गति, संघर्ष और बेचैनी पैदा करे, सुलाए नहीं, क्योंकि अब और  ज़्यादा सोना मृत्यु का लक्षण है।' इस प्रकार 'परिदृश्य चिंतन के ' निबंध-संग्रह उपरोक्त कसौटी पर खरा उतरता है ।
'यदि सपने सच न हों, तो रास्ते बदलो, सिद्धांत नहीं, क्योंकि पेड़ हमेशा पत्तियाँ बदलते हैं, जड़़ें नहीं...' 
इन पंक्तियों के माध्यम से लेखिका ने आज की युवा- पीढ़ी को सचेत किया है...विशेषकर उन युवकों को, जो सत्य व समय की शक्ति को अनदेखा कर निरंतर पतन की राह पर अग्रसर हो रहे हैं। वे भूल जाते है कि समय बहुत बलवान् होता है, जिसे बदलते पल भर भी नहीं लगता।कई बार वक्त राह में कांटे बिछा देता है, तो कई बार कंटक भरी राह को फूलों से आच्छादित कर देता है-- यह प्रेरित  करने वाली  पंक्तियाँ हैं, 'रास्ते बदलो, सिद्धांत नहीं' निबंध की।           

जीवन यदि एक जैसा चलता रहे, तो भी नीरसता आ जाती है । 'एक बार एक पक्षी डाली पर सुस्त बैठा था। कुछ देर बाद वह दूसरे वृक्ष की डाली पर जा बैठा और इस प्रकार कूदता-फाँदता बहुत दूर चला गया। इसके बाद उसे मधुर वाणी सुनाई देने लगी। उसके मन  में विचार आया कि कुछ देर पहले वह एकरसता की ऊब से हताश व निराश था और जैसे ही उसने उड़ान भरी... तभी से ही उसके अन्तर्मन का कुहासा छंटने लगा। प्रकृति के  परिवेश से तालमेल कर वह चहकने लगा है, मानो प्रकृति भी उसके साथ  नृत्य करने लगी हो।' - ये पंक्तियां हैं निबंध 'परिवर्तन...आनन्द का पर्याय' की, जिसमें सर्वोत्तम-सर्वश्रेष्ठ संदेश छिपा है। प्रकृति में परिवर्तन के माध्यम से लेखिका ने मानव जाति को प्रेरित किया है कि मानव कैसे अपना जीवन आनन्दमय बना सकते है!

निबंध व्यक्ति के चिंतन एवं भावात्मक अनुभूति का लिखित रूप होता है। निबंध आकार में लघु, सुसंगत एवं आत्मसमर्पण रचना होती है।निबंध चाहे वर्णना- त्मक हो, विचारात्मक या भावात्मक हो... लेखक उसमें अपना हृदय खोलकर रख देता है। वह अपनी अनुभूति या चिंतन को निस्संकोच पाठक के समक्ष प्रस्तुत कर देता है। लेखक और पाठक के बीच संबंध स्थापित करने वाली निबंध-विधा सबसे सरल व प्रशस्त सेतु होती है। निबंधकार उपदेशक के रूप में स्वयं को नहीं देखता... वह तो केवल अपने विचार व भावनाएँ उन्मुक्त भाव से निबंध में व्यक्त करता है। निबंध पढ़ने से पारस्परिक संवाद- वार्तालाप व बातचीत-सा आनंद मिलता है और एक सौजन्य व सौहार्दपूर्ण वातावरण का सृजन होता है। इन सभी खूबियों से परिपूर्ण हैं, भावात्मक शैली पर आधारित निबंध-संग्रह 'परिदृश्य चिन्तन के' निबंध।

लेखिका, कवयित्री व कहानीकार होने के साथ-साथ वे श्रेष्ठ निबंधकार भी हैं। उपरोक्त संग्रह में चालीस निबंध संग्रहित हैं, जो जीवन के विभिन्न रूपों से बखूबी परिचय करवाते हैं। निबंधों में काव्यात्मक आस्वाद के साथ-साथ गद्यात्मक कसाव भी परिलक्षित होता है। साहित्यिक, धार्मिक, सामाजिक, आध्यात्मिक निबंध भी भावात्मक हैं, जो उनके स्वस्थ जीवन-दर्शन को उद्घाटित करने में सफल सिद्ध  हुए हैं। उन्होंने अपनी लेखनी के माध्यम से हिन्दी निबंध को कथ्यात्मक एवं लालित्यपूर्ण शैली  से मंडित करके विलक्षण प्रतिभा का परिचय दिया है।'

बोल-अबोल' निबंध में हेलन ूकेलर के कथन की सार्थकता को सिद्ध करते हुए लिखा है-' दुनिया की सबसे खूबसूरत चीज़ें न देखी जा सकती हैं, न ही छुईं...उन्हें बस दिल से महसूस किया जा सकता है'  सो! यह कथन अत्यंत सत्य व सार्थक है। सृष्टि का रचयिता परमात्मा व आत्मा दर्शनीय नहीं है, परंतु उनकी सत्ता को अनुभव किया जा सकता है, क्योंकि यही तत्व जीव जगत् का आधार है। इसी प्रकार इन्सान के बोल ही समाज में उसकी स्वीकार्यता- अस्वीकार्यता को निर्धारित करते हैं। रहीम जी का यह दोहा इस भाव को प्रकट करता है---

'रहिमन जिह्वा बावरी,कर गई सरग पाताल ,आपुहिं तो  भीतर गई, जूती  खात कपाल '                                     अर्थात् समय व सीमा का ख्याल रख, सोच-समझ कर बोलने की सलाह दी गयी है, इस निबंध में। 'बोल-अबोल' निबंध वास्तव में विचारात्मक होने के साथ-साथ प्रेरणास्पद भी है। अहं का त्याग कर, संयम व मौन रहकर, किस प्रकार संस्कृति व संस्कारों की रक्षा की जाए... यह संदेश निहित है, इस निबंध में।

'कर्तव्य-परायणता', 'संयम बनाम ध्यान' , 'धैर्य, धर्म, विवेक', 'सत्संगति-सर्वश्रेष्ठ पूंजी','जैसी सोच वैसी क़ायनात' ऐसे अनेक विषयों पर लेखिका ने अपनी लेखनी चलाई है । ये सामाजिक निबंध होने के साथ- साथ वैचारिक भी हैं, जिनमें लेखिका ने समाज और व्यक्ति के संबंधों का विश्लेषण कर, विकास की प्रक्रिया में सामाजिक ढांचे के बदलते हुए स्वरूप व वर्तमान परिस्थतियों में उनकी उपयोगिता-उपादेयता आदि को सिद्ध किया है। समाजिक चिंतन के संदर्भ  में एक ओर नए संदर्भों में अतीत की व्याख्या का प्रयत्न है और दूसरी ओर वैज्ञानिक व प्रगतिशील सोच का उन्मेष है, जिसमें लेखिका के अंतर्मन की अत्यंत अगाध आस्था और विश्वास की झलक है। वास्तव में परमात्मा से आत्मा के मिलन की प्रक्रिया ध्यान है और आज के परिवेश में व्याप्त चिंता, तनाव, अशांति,  असंतुलन, आक्रोश, ईर्ष्या आदि की लकीरों को मिटाने तथा भौतिकतावादी मनोवृत्ति के तमस को आलोक में बदलने का सरल एवं सहज उपक्रम है। आज पूरी मानव जाति अवसाद रूपी नौका में सवार होकर, ज़िंदगी का सफ़र तय कर रही है । ऐसे में 'परिदृश्य चिन्तन के ' निबंध,ध्यान- समाधि के प्रेरक रूप में कार्य करने में सक्षम हैं, सिद्ध-हस्त हैं।                      

संघर्ष करने वाले व्यक्ति को सफल होने से कोई नहीं रोक सकता। उसे सफलता प्राप्त करने के लिए गलत राहों पर चलने की ज़रूरत नहीं पड़ती है। यह संदेश मिलता है, इस संग्रह के निबंध "संघर्ष… सर्वोत्तम जीवन शैली " में लेखिका के विचार द्रष्टव्य हैं...  'जीवन अविराम चलने का नाम है, राह में आने वाली दुश्वारियों के सम्मुख घुटने टेक देना, वास्तव में मृत्यु है। सो! संघर्ष ही जीवन है। संग +हर्ष अर्थात् खुशी से हर परिस्थिति को स्वीकारना और सुख- दुःख में सम स्थिति में रहना। इस प्रकार सभी निबंध-आलेख प्रेरक एवं महत्वपूर्ण हैं, जो 'जीवन कैसे जीया जाए' का पाठ पढ़ाते हैं। ऐसे विचारोत्तेजक आलेख लिखना, कहानी व कविता लिखने के समान सरल नहीं है, अत्यंत दुष्कर कार्य है, जिसमें जीवन के अनुभव तो हैं ही, रचनात्मक अध्ययन व वर्षों का पठन-पाठन भी निहित है, जिस आईने में उनका व्यक्तित्व  स्पष्ट रूप में प्रतिबिम्बित व परिलक्षित है।

इस संग्रह के समस्त निबंध पढ़ने के बाद ऐसा लगा कि एक प्रबुद्ध साहित्यकार के समक्ष, जो भी प्रश्न  आए….चाहे वे सामाजिक ,आध्यात्मिक, वैचारिक , मानसिक व दैनिक जीवन से संबंधित थे, सबका उपयुक्त समाधान-हल सूक्तियों, कहावतों व दोहों के माध्यम से, निरपेक्ष भाव से चिन्तन-मनन कर, अपनी  सामर्थ्य-शक्ति व विवेक से जुटाने का प्रयास किया गया है। इन आलेखों में लेखिका ने अपनी सूक्ष्म व पैनी दृष्टि के साथ-साथ गंभीर विवेचन शक्ति का  परिचय दिया है । 'परिदृश्य चिन्तन के' संग्रह का प्रत्येक निबंध अपनी आभा पृष्ठ -दर -पृष्ठ हमारे सम्मुख उलीचता-विकीर्ण करता हुआ, मनो-मस्तिष्क को आंदोलित कर, गहरे में पैठता चला जाता है। निबंधों में भाव-बोध की स्पष्टता व सरलता ने उसे उभारा है और भाषायी गरिमा ने धार दी है, जिन्हें पढ़कर पाठक एक ओर वर्तमान की पीड़ा, घुटन और जीवन के प्रति उदासीनता, असंतुष्टता व असंतुलन के बीच फैले अंधकार से मुक्त होगा, वहीं दूसरी ओर यह संग्रह जीवन के प्रति सार्थकता के बीज भी अंकुरित करेगा।

किसी भी व्यक्ति को उसके समस्त परिवेश में जानने का पूर्ण और सर्वोच्च माध्यम होता है...उसके रचनात्मक लेखन का पठन-पाठन। इस दृष्टि से  'परिदृश्य चिन्तन के' निबंध डाक्टर मुक्ता के व्यक्तित्व के खुले पृष्ठ हैं, जिनका पठन व चिंतन-मनन कर, हम अपने जीवन को सकारात्मक ऊर्जा के साथ, शाश्वत आनंद भी प्राप्त कर सकते हैं। इस संग्रह को विद्यालयों व महाविद्यालयों के पाठ्यक्रम में स्थान उपलब्ध हो...ऐसा हमारा प्रयास होना चाहिए। हिन्दी साहित्य जगत् को समृद्ध करने वाली मुक्ता स्वस्थ एवं दीर्घायु हों और साहित्य साधना-रत रहें, इस संग्रह को हिन्दी साहित्य जगत् खुले हृदय से स्वीकार कर, लाभान्वित होगा। इन्हीं शुभकामनाओं के साथ लेखिका को पुनः बधाई ।