ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
आईआईटी रोपड़ के वैज्ञानिक कृषि को अधिक टिकाऊ और लाभदायक बनाने के लिए अत्याधुनिक समाधान विकसित करेंगे
August 9, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • राष्ट्रीय

भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डी.एस.टी.) ने कृषि एवं जल के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र (टी.आई.एच) स्थापित करने के लिए 110 करोड़ रुपये की राशि को मंजूरी। इस योजना के तहत आईआईटी रोपड़ के वैज्ञानिक कृषि को किसानों के लिए अधिक टिकाऊ और लाभदायक बनाने के लिए अत्याधुनिक समाधान विकसित करेंगे। जल और मिट्टी गुणवत्ता मूल्यांकन, जल उपचार और प्रबंधन, कृषि स्वचालन और सूचना प्रणाली, पराली प्रबंधन प्रणाली और शहरी खेती, पानी व मिट्टी में खतरनाक पदार्थों का मानचित्रण और उनके उपचार, कृषि क्षेत्रों में और कृषि वस्तुओं के प्रबंधन में आईओटी प्रौद्योगिकियों की तैनाती। यह हब कृषि और पानी के क्षेत्र में स्टार्टअप, स्नातक और स्नातक शोध छात्रों, नई कंपनियों का समर्थन करेगा। 

रोपड़ : भारत सरकार के विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग (डी.एस.टी.) ने कृषि एवं जल के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र (टी.आई.एच) स्थापित करने के लिए 110 करोड़ रुपये की राशि को मंजूरी दी है। ‘अवध’ के रूप में संक्षिप्त (कृषि एवं जल प्रौद्योगिकी विकास केंद्र), जिसका उदेश्य पराली प्रबंधन, जल गुणवत्ता में सुधार, पानी/मिट्टी में खतरनाक पदार्थों की जांच करके और उनके उपचार, कृषि क्षेत्रों में आईओटी आधारित साइबर-भौतिक प्रणाली (सीपीएस) प्रौद्योगिकियों की तैनाती के लिए समाधान लाना है। इस नवाचार अनुसंधान केंद्र का मुख्य उद्देश्य कृषि को अत्यधिक अनुकूलित संसाधन के साथ एक लाभदायक उद्योग बनाना है।

एक कृषि राज्य के हिस्से के रूप में, यह जल-कृषि से संबंधित मुद्दों को हल करने के उद्देश्य से अनुसंधान शुरू करने के लिए आईआईटी रोपड़ के कार्यक्षेत्रों में से एक रहा है। ‘अवध’ का उद्देश्य विज्ञानिक शोध करना है और मूल स्थापित करना, उत्पाद और क्षेत्रों में उनके कार्यान्वयन के लिए संबंधित विभागों के साथ काम करना है। यह शोधकर्ताओं और प्रौद्योगिकीविदों के लिए प्रौद्योगिकियों और प्रथाओं को विकसित करने के लिए एक राष्ट्रीय मंच प्रदान करेगा जो कृषि और पानी के क्षेत्र में देश के समग्र परिदृश्य में सुधार कर सकता है।

प्रौद्योगिकी द्वारा तेजी से चालित दुनिया में, साइबर फिजिकल सिस्टम एक एकीकृत प्रणाली है जिसमें सेंसर, संचार, एक्ट्यूएटर, कंट्रोल, इंटरकनेक्टेड कंप्यूटिंग नेटवर्क और डेटा एनालिटिक्स शामिल हैं, जो देश में कृषि और जल के मुद्दों से संबंधित वैज्ञानिक सफलताओं और नवाचारों के लिए समाधान और तकनीकी सहायता विकसित करने में मदद करेगा। आइआइटी रोपड़ के निदेशक प्रो सरित के दास ने कहा कि भारत सरकार द्वारा किया गया यह मिशन देश में कृषि और जल क्षेत्र को अत्याधुनिक शोध के लिए उजागर कर मदद करेगा।

केंद्रीय कोर टीम में डॉ प्रबीर सरकार (पराली प्रबंधन एवं पर्यावरण), डॉ नीरज गोयल (कृषि में एआई), डॉ नीलकंठ निर्मलकर (जल गुणवत्ता प्रबंधन), डॉ सुमन कुमार (कृषि में आईओटी और आईओईई), डॉ एल विजय आनंद (जल एवं मिट्टी गुणवत्ता प्रबंधन), डॉ पुष्पेंद्र पी सिंह (जल व मिट्टी में खतरनाक पदार्थ जांचने हेतू) और डॉ मुकेश कुमार (एआई आधारित कृषि निगरानी) शामिल हैं। आईआईटी रोपड़ में कृषि एवं जल के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी नवाचार केंद्र के बारे में पूछे जाने पर हब कोऑर्डिनेटर डॉ पुष्पेंद्र पी सिंह ने भारत में हरित क्रांति के जनक डॉ एमएस स्वामीनाथन को याद करते हुए कहा कि उन्होंने कहा था कि अगर कृषि गलत होती है तो देश में और कुछ सही नहीं होने का मौका मिलेगा।

दुर्भाग्यवश, भारत में हरित क्रांति की सफलता के साथ-साथ प्रति हेक्टेयर अधिक बढ़ने के लिए उपयोग किए जाने वाले उर्वरकों, जल और कीटनाशकों के अत्यधिक उपयोग के कारण मिट्टी और जल की गुणवत्ता और समग्र कृषि पर्यावरण में गिरावट आई।

अवध केंद्र का मुख्य उद्देश्य इस प्रवृति को सुधारना है। आईआईटी रोपड़ की टीम ऐसी तकनीकों और कृषि पद्धतियों का विकास करेगी जो उपज में सुधार कर लोगों के मुंह तक पहुंचने वाले खतरनाक पदार्थों को कम से कम कर सकती हैं। केंद्र के लक्ष्य को हासिल करने के लिए टीम किसानों से जुड़ेगी, उनकी समस्याओं को सुनेगी और व्यवहार्य, तकनीक आधारित आर्थिक समाधान लेकर आएगी।