ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
अमेरिका-चीन व्यापार तनाव से धातुओं का आउटलुक कमजोर
May 5, 2020 • प्रथमेश माल्या • अंतर्राष्ट्रीय

दुनियाभर में कोविड-19 से जुड़ा लॉकडाउन खत्म होते जा रहे हैं। पूरे स्पेक्ट्रम में सभी कमोडिटी कीमतें भी बढ़ती जा रही हैं। हालांकि, अमेरिका और चीन के बीच बढ़ता व्यापार तनाव आने वाले हफ्तों में कमोडिटी के रिवाइवल को परेशान कर सकता है। प्रथमेश माल्या, चीफ एनालिस्ट, नॉन-एग्री कमोडिटी एंड करेंसी, एंजिल ब्रोकिंग लिमिटेड 

सोना

पिछले हफ्ते स्पॉट गोल्ड की कीमतें 1.6 प्रतिशत कम हो गईं, क्योंकि कई देशों में वायरस से संबंधित लॉकडाउन खत्म होने की उम्मीद के बीच निवेशकों के बीच जोखिम उठाने की भूख बढ़ी और सेफ हैवन संपत्ति के तौर पर गोल्ड की अपील कमजोर हुई। अमेरिका, न्यूजीलैंड, यूरोप और ऑस्ट्रेलिया ने कोरोनोवायरस संबंधित लॉकडाउन को आंशिक कम करने का फैसला किया, जिसने बाजार की भावनाओं का समर्थन किया। अमेरिकी फेडरल रिजर्व ने ब्याज दरों को शून्य के पास रखा और कहा कि वह अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए सभी उपलब्ध साधनों का उपयोग करेगा जिसने सराफा धातु की कीमतों में गिरावट को सीमित कर दिया। कुछ रिपोर्टों में दावा किया गया कि अमेरिकी राष्ट्रपति आगे चलकर उनकी अर्थव्यवस्था में गिरावट लाने वाले वायरस प्रकोप का बदला लेने के लिए चीन पर नए टैरिफ लगा सकते हैं और इसने गोल्ड कीमतों को कुछ समर्थन दिया। अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने दुनिया में कोविड-19 के प्रकोप के लिए चीन को जिम्मेदार ठहराया और पश्चिमी देशों की अर्थव्यवस्थाओं को नष्ट करने के लिए चीन की एक बड़ी साजिश का संकेत दिया है।

चांदी

पिछले सप्ताह स्पॉट सिल्वर कीमतें 1.97 प्रतिशत कम होकर 14.9 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई जबकि एमसीएक्स पर कीमतें 1.94 प्रतिशत कम होकर बंद हुई और 4,237 रुपए प्रति किलो पर बंद हुई।

क्रूड

पिछला हफ्ता दुनिया में कच्चे तेल की कीमतों के लिए अच्छा था। डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतों में 16.8 प्रतिशत की वृद्धि हुई है, जो चार हफ्तों में पहली बार साप्ताहिक लाभ की स्थिति में रहा। इसका कारण था शुक्रवार से ओपेक+ देशों के बीच हुई नई सप्लाई डील क्रियान्वित हुई। पेट्रोलियम निर्यातक देशों और उनके सहयोगियों के संगठन ने 1 मई, 2020 से प्रति दिन 9.7 मिलियन बैरल प्रतिदिन अपने उत्पादन को कम करने पर सहमति जताई है। एनर्जी इंफर्मेशन एडमिनिस्ट्रेशन की रिपोर्टों के बाद कीमतों को समर्थन मिला जिसमें कहा गया था कि यूएस क्रूड इन्वेंट्री का स्तर 9 मिलियन बैरल बढ़ा है, जबकि पिछले हफ्ते बाजार में 10.6 मिलियन बैरल की वृद्धि की उम्मीद थी। यू.एस. डिलीवरी पॉइंट्स में तेजी से भरने वाली भंडारण क्षमता और कमजोर वैश्विक मांग की वजह से  सप्ताह के शुरुआती दिनों कच्चे तेल की कीमतों को नुकसान हुआ था।

बेस मेटल्स

यह लंदन मेटल एक्सचेंज में बेस मेटल्स कीमतों के लिए मिश्रित सप्ताह था, जिसमें समूचे स्पेक्ट्रम में सबसे अधिक लाभकारी था। निकट भविष्य में सप्लाई शॉर्टेज के संकेत को देखते हुए ट्रीटमेंट चार्ज तेजी से घटे और जिंक की कीमतों को कुछ समर्थन मिला। कोरोनावायरस चिंताओं में कमी आने के बाद कई देशों ने वायरस से संबंधित लॉकडाउन को धीरे-धीरे उठाने की घोषणा की है और इससे दुनियाभर में आर्थिक गतिविधियां फिर गति पकड़ रही हैं। इससे औद्योगिक धातुओं की मांग को बढ़ावा मिलेगा। हालांकि, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा बीजिंग पर नए टैरिफ लगाने की धमकी देने के बाद कीमतों पर दबाव आया, जिससे बेस मेटल्स के लिए मांग के आउटलुक में बाधा उत्पन्न हुई। इसके अलावा, यू.एस. फैक्ट्री डेटा अप्रैल 2020 में अपने 11 साल के निचले स्तर तक गिर गया, जिसने दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था की मांग में गिरावट का संकेत दिया।

कॉपर

एलएमई पर कॉपर की कीमतें पिछले सप्ताह 0.6 प्रतिशत कम हो गईं, क्योंकि चीन पर अमेरिका द्वारा ताजा टैरिफ से मार्केट चिंतित है और लाल धातु की कीमतों पर कमजोर आर्थिक आंकड़ों का असर पड़ रहा है। हालांकि, चीन की मैन्यूफेक्चरिंग गतिविधियों से जुड़े नंबर अप्रैल 2020 में लगातार दूसरे महीने बढ़े, क्योंकि व्यावसायिक गतिविधियों ने लॉकडाउन चिंताओं को कम करते हुए वापसी की है। धातुओं के सबसे बड़े उपभोक्ता चीन से मांग में रिकवरी नने धातु उपभोक्ता की मांग में कमी, चीन ने कॉपर की कीमतों में गिरावट को सीमित कर दिया।