ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
चीन की मैन्यूफेक्चरिंग रिकवरी क्रूड के लिए अच्छा सौदा, पीली धातु की चमक फीकी
April 3, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • बिज़नेस

चीन से अपेक्षित बेहतर मैन्यूफेक्चरिंग आंकड़ों से अंतरराष्ट्रीय अर्थव्यवस्था में तेजी से रिकवरी की उम्मीद जागी है। इससे कच्चे तेल और बेस मेटल्स की कीमतों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा, जबकि सोने की कीमतों पर नकारात्मक असर पड़ा है। आने वाले दिनों में कमोडिटी की कीमतें उस रिकवरी पर निर्भर करेंगी जो चीनी अर्थव्यवस्था कोरोनावायरस के प्रभाव से दर्ज करेगी।यहां हम बता रहे हैं कि 31 मार्च को विभिन्न कमोडिटी का प्रदर्शन कैसा रहा।

सोना

चीन की उम्मीद से बेहतर आर्थिक आंकड़ों और दुनिया की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था के पटरी पर लौटने की उम्मीद ने मंगलवार को सोने की कीमतों को नीचे खींचा। सोने की कीमत 3 प्रतिशत की गिरावट के साथ 1571.7 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। इसके अलावा अमेरिकी डॉलर को मिली सराहना से अन्य मुद्रा धारकों के लिए पीली धातु महंगी हो गई और इसका असर सोने की कीमतों पर दबाव के तौर पर सामने आया। चीन के इंडस्ट्रियल सेक्टर पीएमआई फरवरी 2020 के 35.7 निचले स्तर से बढ़कर मार्च 2020 में 52.7 पर पहुंच गया। हालांकि, कोरोनावायरस महामारी का मुकाबला करने के लिए दुनिया के बाकी हिस्सों में लागू लॉकडाउन ने बाजारों को सतर्क रखा और सोने की कीमतों में गिरावट को रोक दिया।

अमेरिकी फेडरल रिजर्व और अन्य प्रमुख केंद्रीय बैंकों द्वारा घातक वायरस के प्रकोप से लड़ने के लिए मजबूत स्टिमुलस इंफ्यूजन ने दुनिया के बाजारों में बुलियन के लिए अपील को प्रोत्साहन जारी रखा। आने वाले दिनों में अमेरिकी डॉलर को मिलती सराहना और चीन के आर्थिक आंकड़ों से सेफ-हेवन असेट्स के प्रति अपील कमजोर हो सकती है और इसका असर सोने की कीमतों में कमी के तौर पर नजर आ सकता है।

चांदी:

मंगलवार को स्पॉट सिल्वर की कीमतें 0.59 प्रतिशत बढ़कर 14.5 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई जबकि एमसीएक्स चांदी 1.04 प्रतिशत की गिरावट के साथ 40,894.0 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुई। 

कच्चा तेलः

अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल की कीमतों को स्थिर करने के लिए अमेरिकी और रूसी राष्ट्रपतियों के बीच बातचीत का मंगलवार को डब्ल्यूटीआई कच्चे तेल की कीमतों पर सकारात्मक प्रभाव पड़ा, जो 1.94 प्रतिशत बढ़कर 20.5 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुआ। मार्च में कच्चे तेल की कीमतें कई महीनों के ग्लोबल लॉकडाउन की चिंताओं से धराशायी हो गई थीं। कई देशों ने घातक वायरस का मुकाबला करने की कोशिश में लॉकडाउन की घोषणा की है, जिससे औद्योगिक गतिविधियों में ठहराव के साथ विमानन और सड़क परिवहन पूरी तरह से थम गया है। कच्चे तेल की कीमतों में कमी लाने में यह एक प्रमुख कारक साबित हुआ है। ओपेक+ डील मार्च में पहले ही ढह गई थी, जिससे रूस और सऊदी अरब जैसे प्रमुख तेल उत्पादकों के बीच अधिक से अधिक बाजार हिस्सेदारी पाने की होड़ शुरू हो गई थी। अमेरिकी क्रूड इन्वेंट्री के स्तर में उछाल की उम्मीद के साथ ग्लोबल मार्केट्स में ओवरसप्लाई की आउटलुक चिंताओं का असर कीमतों पर जारी रह सकता है।

बेस मेटल्सः

चीन में पॉजीटिव मैन्यूफेक्चरिंग डेटा के कारण एलएमई पर बेस मेटल की कीमतों में मंगलवार को बढ़ोतरी हुई। चीन में मैन्यूफेक्चरिंग क्षेत्र पीएमआई फरवरी-20 में 35 के निचले स्तर पर गिरने के बाद मार्च-20 में 52 अंक पर वापसी की है। फैक्टरी डेटा से जुड़े आंकड़ों में अचानक उछाल ने बाजार की चिंताओं को कम किया और औद्योगिक धातुओं की मांग में सुधार हुआ। अमेरिकी डॉलर की सराहना ने अन्य मुद्रा धारकों के लिए औद्योगिक धातुओं को महंगा किया, जिसने कीमतों में तेजी को रोका। हालांकि, तेजी से फैलने वाले कोरोनावायरस को रोकने के प्रयास में दुनिया भर में लागू लॉकआउट के मद्देनजर कई देशों में औद्योगिक गतिविधियों में ठहराव दिख रहा है। यूरोप में ऑटो उत्पादन के थमने और अमेरिकी अर्थव्यवस्था के बीच चीन में कार की बिक्री में गिरावट से संकेत मिला कि कोरोनावायरस महामारी का प्रभाव बहुत गंभीर हो सकता है और औद्योगिक धातुओं की मांग की संभावनाओं को बाधित कर सकता है।

तांबाः

मंगलवार को एलएमई कॉपर की कीमतें 0.44 प्रतिशत बढ़कर 4769.5 डॉलर प्रति टन पर बंद हुईं क्योंकि चीन के मजबूत फैक्ट्री आंकड़ों के साथ कई खदानों के बंद होने से लाल धातु की कीमतों को समर्थन मिला। श्री प्रथमेश माल्या, चीफ एनालिस्ट नॉन एग्री कमोडिटीज एंड मुद्राओं, एंजेल ब्रोकिंग लि।