ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
दुनिया भर में कोरोनावायरस के बढ़ते मामलों के बीच सोने की कीमतों में वृद्धि
June 25, 2020 • प्रथमेश माल्या • बिज़नेस

नयी दिल्ली - दुनिया भर की सरकार के लिए मुख्य चिंता यह सुनिश्चित करने पर फोकस रही कि अर्थव्यवस्था सामान्य स्थिति में लौट आए, नागरिकों को सुरक्षा की गारंटी मिले और स्वास्थ्य सुविधाओं तक पहुंच सुनिश्चित करे।प्रथमेश माल्या, एवीपी- रिसर्च नॉन एग्री कमोडिटीज एंड करेंसीज, एंजेल ब्रोकिंग लिमिटेड कहते हैं कि 

सोना
सोमवार को स्पॉट गोल्ड की कीमतें 0.7 प्रतिशत बढ़कर 1754.5 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुईं क्योंकि नए कोरोनोवायरस मामले अमेरिका और चीन के कुछ हिस्सों में लगातार बढ़ते रहे। महामारी के आसपास की अनिश्चितता ने सेफ-हैवन संपत्ति, सोने के लिए अपील बढ़ाई। अमेरिकी फेडरल रिजर्व की रिपोर्टों ने निराशाजनक तथ्य की ओर इशारा किया कि यदि पर्याप्त उपाय लागू नहीं किए गए तो बेरोजगारी बढ़ सकती है। दुनियाभर के केंद्रीय बैंकों ने व्यावहारिक प्रोत्साहन और आसव उपायों ने पीली धातु की कीमतों को सपोर्ट किया है।

सिल्वर
सोमवार को स्पॉट सिल्वर की कीमतें 1.25 प्रतिशत बढ़कर 17.8 डॉलर प्रति औंस पर बंद हुई। एमसीएक्स पर कीमतें 0.28 प्रतिशत कम होकर 4,8500 रुपये प्रति किलोग्राम पर बंद हुईं।

कच्चा तेल
सोमवार को डब्ल्यूटीआई क्रूड की कीमतें 1.79 प्रतिशत बढ़कर 40.5 डॉलर प्रति बैरल पर बंद हुईं क्योंकि ओपेक ने आक्रामक उत्पादन कटौती को जारी रखने के अपने फैसले को कायम रखा।हालांकि, कच्चे तेल के लाभ सीमित ही रहे, क्योंकि चीन जैसे कई स्थानों पर, कोरोनोवायरस के नए मामले सामने आए हैं। पहले से ही दुनियाभर में हवाई और सड़क यातायात पर प्रतिबंध की वजह से कमजोर मांग ने तेल की कीमतों में वृद्धि को सीमित कर दिया है।

बेस मेटल्स
सोमवार को लंदन मेटल एक्सचेंज (एलएमई) पर बेस मेटल की कीमतें पॉजीटिव नोट पर बंद हुईं क्योंकि चीन से रिपोर्ट ने सकारात्मक व्यापार डेटा और टॉप मेटल उपभोक्ता से बढ़ती मांग को इंगित किया। चीन में मांग सुधरने के महत्वपूर्ण संकेतों में से एक एसएचएफई पर इन्वेंट्री का स्तर कम हो रहा है। एसएचएफई पर एल्युमीनियम और जिंक इन्वेंट्री मार्च 2020 में दर्ज की गई वर्ष के उच्च स्तर से 50 प्रतिशत और 40 प्रतिशत से अधिक गिर गई। इन्वेंट्री में तेज गिरावट ने औद्योगिक धातु की कीमतों में वृद्धि को जारी रखा,जिसने बढ़ती मांग के संकेत दिए।