ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
एमडीआई गुड़गांव और थिंक कल्चर फाउंडेशन ने थिंक कल्चर कॉन्क्लेव 2019 की मेजबानी करने के लिए साझेदारी की
November 29, 2019 • नूरुद्दीन अंसारी • अंतर्राष्ट्रीय

"कल्चरली कॉन्शियस कॉन्शियसशिप" के विषय पर, इस कॉन्क्लेव में एक महत्वपूर्ण अनिवार्यता के रूप में व्यापारिक इकोसिस्टम में सांस्कृतिक संवेदनशीलता स्थापित करने के लिए प्रयास किया गया

गुड़गांव : थिंक कल्चर कॉन्क्लेव 2019 का आयोजन करने के लिए भारत के एक अग्रणी बी-स्कूल, मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट (एमडीआई) गुड़गांव ने थिंक कल्चर फाउंडेशन (टीसीएफ) के साथ हाथ मिलाया है। "कल्चरली कॉन्शियस कॉन्शियसशिप" के विषय के साथ, इस कार्यक्रम में व्यापारिक इकोसिस्टम में क्रॉस-कल्चर को बढ़ावा देने के साथ-साथ 2020 के बढ़ते विविध कार्यबल के बीच संगठनात्मक तालमेल के लिए सांस्कृतिक संवेदनशीलता का प्रचार करने की जरूरत पर ध्यान केंद्रित किया गया।

इस वार्षिक सम्मेलन का नवीनतम संस्करण एमडीआई गुड़गांव परिसर में आयोजित हुआ,और इसमें क्षेत्र के प्रमुख सीएक्सओ, उद्यमी और शिक्षाविदों अन्य सहित प्रतिष्ठित गणमान्य लोगों ने भाग लिया। इस कार्यक्रम में सांस्कृतिक चेतना को बढ़ावा देने के लिए एमडीआई के दृष्टिकोण को रेखांकित किया गया और भविष्य में इसी तरह के कार्यक्रमों के लिए एक मंच के रूप में काम करेगा - जिनमें से कई पहले से ही आयोजन क्रम में हैं।

इस कॉन्क्लेव के साथ एमडीआई गुड़गांव और थिंक कल्चर फाउंडेशन (टीसीएफ) के बीच एक समृद्ध साझेदारी की शुरुआत भी हुई, जो भावी नेतृत्व को बढ़ावा देने के उद्देश्य से अपने छात्रों को महत्वपूर्ण शिक्षा प्रदान करने के एमडीआई के प्रमुख मिशनों में से एक है। इस प्रकार, थिंक कल्चर कॉन्क्लेव 2019 ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई, जैसा कि कि सांस्कृतिक विविधता और समावेश कार्यस्थल में नेतृत्व और संबंध निर्माण में निभाते हैं, और भविष्य में वैश्विक सहयोग का मार्गदर्शन करते रहेंगे। 40% से अधिक कर्मचारी समावेश के साथ-साथ व्यवसाय के बेहतर प्रदर्शन से एक विविध कार्यस्थल संस्कृति को जोड़कर, हाल ही में मैकिन्से के एक अध्ययन में इस विकास को सत्यापित किया गया।

एमडीआई गुड़गांव के निदेशक प्रो. (डॉ.) पवन कुमार सिंह ने कहा, “सांस्कृतिक रूप से जागरूक नेतृत्व बहुत महत्वपूर्ण है, खासकर इस वैश्वीकृत दुनिया में। विभिन्न संस्कृतियों में नेताओं के लिए, अखंडता, विनम्रता, उद्देश्य की भावना और भावनात्मक बुद्धि बहुत महत्वपूर्ण है।उन्होंने भविष्य की पीढ़ी के लिए पर्यावरण के प्रति संवेदनशील होने पर भी जोर दिया।

सुश्री यान हान, संस्थापक, थिंक कल्चर फाउंडेशन ने संस्कृति के महत्व पर जोर दिया और इसके बारे में अपने ध्येय का वर्णन किया, “मेरे लिए, संस्कृति हवा की तरह है। जैसे-जैसे समय बीतता है और भविष्य बीता कल बन जाता है, संस्कृति बनी रहती है। यह इस बात को दर्शाता है कि इंसान होने का मतलब क्या है। यह हमारे आसपास के सुंदरता और अनुग्रह के प्रति हमारा स्नेह है। थिंक कल्चर फाउंडेशन इस ध्येय पर बनाया गया है।

सभा ने जानकारी साझा करने के विभिन्न सत्रों के लिए मंच तैयार किया। वक्ताओं ने टीमों के बीच सहयोग को बढ़ावा देने के लिए संगठन-व्यापी उपकरण और पहलों को लागू करने पर अपने अनुभव और अंतर्दृष्टि साझा की। इस कार्यक्रम में एक मजबूत कॉर्पोरेट परिवेश को बढ़ावा देने के तरीकों के बारे में भी बात की गई, जिससे सकारात्मक सांस्कृतिक और सामाजिक मूल्यों को मजबूत किया जाता है। समावेशीता को विशेषाधिकार देने और मजबूत, स्थाई, और समावेशी लीडरशिप के नेतृत्व में विविधता केंद्रित कार्यनीति बनाने का महत्वपूर्ण प्रमुख परिणाम के रूप में उभरा।

जिन गणमान्य व्यक्तियों ने इस विषय पर ध्यान केंद्रित किया, उनमें मुख्य वक्ता श्री एस वाई सिद्दीकी, मुख्य सलाहकार, मारुति सुजुकी इंडिया लिमिटेड; और सुश्री यान हान, संस्थापक, थिंक कल्चर फाउंडेशन थे। अन्य पैनलिस्ट में सुश्री प्रियंका अग्रवाल, क्षेत्रीय प्रतिभा प्रबंधक (रेकिट बेंकाइज़र); सुश्री दिव्या जैन, संस्थापक और सीईओ (सेफ़जुकेट); डॉ. तनुजा शर्मा, प्रोफेसर और क्षेत्र अध्यक्ष, एचआरएम, एमडीआई गुड़गांव; और सुश्री सुरबानी दुबे, उपाध्यक्ष (ग्रेट प्लेस टू वर्क) और सुश्री वेनजुआन झांग, निदेशक, सेंटर फॉर इंडिया-चीन स्टडीज़ थे।

संस्कृति और युवाओं को सशक्त बनाने के अपने मिशन के अनुरूप, थिंक कल्चर फाउंडेशन ने कॉलेज ऑफ आर्ट्स, दिल्ली के साथ भी साझेदारी की है। 40 से अधिक छात्र कलाकारों ने, एमडीआई गुड़गांव में विशेष कॉरिडोर में प्रदर्शित की गई, अपनी उत्कृष्ट रचनाओं से इस कार्यक्रम को पूरा किया।

मैनेजमेंट डेवलपमेंट इंस्टीट्यूट गुड़गांव के बारे में

एमडीआई गुड़गांव भारत का अग्रणी बी-स्कूल है। एमडीआई द्वारा पेश किए गए प्रबंधन के स्नातकोत्तर कार्यक्रम अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) नई दिल्ली द्वारा मान्यता प्राप्त और स्वीकृत हैं। इसके पीजीपीएम को तकनीकी शिक्षा के लिए अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद के 'नेशनल बोर्ड ऑफ एक्रिडिटेशन' द्वारा "" ग्रेड से सम्मानित किया गया है। विभिन्न सर्वेक्षणों में लगातार देश के शीर्ष पांच बी-स्कूलों और पहले अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मान्यता प्राप्त भारतीय बी-स्कूल में एमडीआई को स्थान दिया है। एमडीआई के बोर्ड सदस्यों में उद्योग के साथ-साथ शिक्षाविद दोनों क्षेत्रों के प्रमुख व्यक्तित्व शामिल हैं। एमडीआई वैचारिक नेताओं और बदलाव लाने वालों और अकादमिक उत्कृष्टता और निरंतर नवाचार के लिए एक स्कूल है।

थिंक कल्चर फाउंडेशन के बारे में

थिंक कल्चर फाउंडेशन एक गैर-लाभकारी संगठन है जो कला और संस्कृति के प्रचार के माध्यम से सभ्यताओं के बीच सद्भाव को बढ़ावा देने में विश्वास करता है। एक संगठन के रूप में, हम एक साथ मिलकर, एक बेहतर कल बनाने के लिए युवाओं, महिलाओं और व्यापार को सशक्त बनाने में मदद करने के लिए वैश्विक सांस्कृतिक ज्ञान के प्रसार के लिए प्रतिबद्ध हैं। टीसीएफ कला और संस्कृति के आधार पर सार्थक बहु-सांस्कृतिक बातचीत को बढ़ावा देकर सांस्कृतिक समझ का निर्माण करने पर विश्वास करता है।