ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
हंगरबॉक्स सॉल्युशन कोविड-19 संचार का खतरा कम करेगा
May 22, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • राष्ट्रीय

नयी दिल्ली - भारत के बड़े-बड़े व्यापार धीरे-धीरे पिछले कुछ हफ्तों से चल रहे डब्ल्यूएफएच (वर्क फ्रॉम होम) मॉडल से फिर दफ्तर लौटने की तैयारी में हैं। स्टाफ के इस्तेमाल के लिए कैफेटेरिया फिर से खोलने की तैयारी हो रही है। ऐसे समय में जब सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से प्रोटोकॉल से जुड़े मानक और कड़े कर दिए गए हैं और सुरक्षा व स्वच्छता एफएंडबी ऑपरेशन से जुड़ी पूरी वैल्यू चेन के लिए प्रमुख प्राथमिकता है।

भारत की अग्रणी संस्थागत फूड-टेक कंपनी हंगरबॉक्स ने एफएसएसएआई (भारतीय खाद्य सुरक्षा और मानक प्राधिकरण) और डब्ल्यूएचओ के दिशानिर्देशों और भारत सरकार के आरोग्यसेतू ऐप में दी गई अनुशंसाओं के आधार पर मजबूत सॉल्युशन लॉन्च किया है ताकि कैफेटेरिया संचालन को 'कोविड-19 सेफ' बनाया जा सके। ' हंगरबॉक्स के सीईओ और सह-संस्थापक संदीपन मित्रा ने कहा, "हंगरबॉक्स 'कोविड-19 सेफ' सॉल्युशन पांच-आयामी दृष्टिकोण का अनुसरण करता है जो टेक्नोलॉजी, यूजर-कनेक्ट और संचार, डब्ल्यूएचओ-निर्धारित सुपरवाइजर ट्रेनिंग और रसोई घर और कैफेटेरिया संचालन के लिए कड़े प्रोटोकॉल जैसे पहलुओं को शामिल करता है, जिसमें ऑपरेशन से जुड़े कर्मचारियों की सख्त जांच और कैफ़ेटेरिया ऑपरेशंस के 360 डिग्री परिदृश्य को शामिल करने वाली एक प्रौद्योगिकी-नीत निगरानी प्रणाली शामिल है।

मित्रा ने कहा, “कैफ़े में दिनभर यूजर आते-जाते रहते हैं, हमारे डेटा से पता चलता है कि इंस्टिट्यूशन सेटिंग में कैफेटेरिया दोपहर 1:17 बजे पीक पर फ्लो अनुभव करता है। भीड़ के अलावा, नकद लेन-देन भी वायरस के संक्रमण का खतरा बढ़ सकता है। हमने अपने ग्राहकों के साथ मिलकर कैफे के इस सॉल्युशन को बनाने पर काम किया है, ताकि एफएसएसएआई की नई गाइडलाइंस के आधार पर कैफे में भीड़ कम की जा सके, अधिक सुरक्षा उपायों और ऑपरेशनल प्रक्रियाओं को लागू किया जा सके, ताकि खाद्य पदार्थों के प्रदूषित होने और कोविड-19 ट्रांसमिशन के जोखिम को कम से कम किया जा सके।”

एआई/एमएल का इस्तेमाल करते हुए हंगरबॉक्स प्लेटफ़ॉर्म कैफ़े में यूजर-फ्लो को नियंत्रित करता है और भीड़ को कम करने में सक्षम बनाता है। भीड़ प्रबंधन में सक्षम करता है। यह सुनिश्चित करता है कि यूजर केवल तभी कैफे में पहुंचे, तब वहां जाना सुरक्षित हो और सोशल डिस्टेंसिंग को बनाए रखा जा सके। हंगरबॉक्स ने रसोई के साथ-साथ कैफेटेरिया में भी बेहतर सुरक्षा प्रोटोकॉल लागू किए हैं। खाद्य पदार्थों की हैंडलिंग कर सकने और 'फिट टू वर्क' को ही कैफे एक्सपीरियंस मैनेजर के रूप में अनुमति दी जाएगी। स्टाफ की नियमित जांच और रसोई में खाद्य सुरक्षा मानकों के अनुपालन की निगरानी, फूड काउंटर और कैफेटेरिया को हंगरबॉक्स की तकनीक की मदद से किया जाएगा। इसके अलावा कैश हैंडलिंग के कारण वायरस ट्रांसमिशन के जोखिम को खत्म करने के लिए सभी प्रमुख कॉन्टेक्ट-लेस पेमेंट विकल्प प्रदान किए जाएंगे।

ग्राहकों को एक डेटा डैशबोर्ड से सशक्त किया गया है जो कैफे संचालन के रियल-टाइम स्टेटस को ट्रैक करने में मदद करता है। सॉल्युशन के एक हिस्से के रूप में रसोई के संचालन में निर्धारित एफएसएसएआई मानकों के आधार पर कच्चे माल की हैंडलिंग, भोजन की तैयारी, रसोई स्वच्छता के मानक और फूड ट्रांसपोर्टेशन के साथ-साथ  11 अलग-अलग रिकॉर्ड्स हैं, जिन्हें हंगरबॉक्स पार्टनर किचन में कायम रखा गया है। इनमें स्वच्छता, खाना पकाने का तापमान, परिसर, परिवहन आदि के लिए सफाई चेकलिस्ट के कई लॉग शामिल हैं। जब भोजन ग्राहकों के कैफेटेरिया तक पहुंचता है तो फूड सर्विस और ऑर्डरिंग, काउंटर की स्वच्छता, कैफे की स्वच्छता और कैफे की निगरानी जैसे क्षेत्रों में कड़े मानकों पर ध्यान केंद्रित किया जाता है।