ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
जनवरी 2020 को होने जा रहा है "JIFF" 64 देशों की 219 फिल्मों का हुआ चयन
November 6, 2019 • क़ुतुब मेल • मनोरंजन

जयपुर। जनवरी 2020 का महीना फिल्मों की दुनिया से सराबोर होने को है। जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ट्रस्ट और आर्यन रोज़ फाउण्डेशन की ओर से आयोजित जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल [ जिफ] का आगाज़ इस वर्ष 17 से 21 जनवरी को होने जा रहा है।

फिक्शन फिल्मों की श्रेणी में जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल, विश्व के सबसे बड़े फिल्म फेस्टिवल के रूप में अपनी पहचान बना चुका है।

जिफ संस्थापक हनु रोज़ ने बताया कि इस वर्ष जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में फिल्मों का प्रदर्शन शहर के आयनॉक्स सिनेमा हॉल [गौरव टावर] में होगा। वहीं, सिनेमा जगत् से जुड़ी विविध चर्चाओं और संवाद कार्यक्रमों का आयोजन शहर के क्लार्कस आमेर होटल और अन्य स्थानों पर होगा।

दुनिया भर के सिने प्रेमियों के लिए बहुप्रतीक्षित जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में प्रदर्शित होने वाली फिल्मों की सूची मंगलवार को जारी की गई। यह सूची दो हिस्सों में है – कॉम्पिटिटीव फिल्में और डेस्कटॉप फिल्में। कॉम्पिटिटीव फिल्मों के रूप में चयनित फिल्में बड़ी स्क्रीन्स पर दिखाई जाएंगी, वहीं डेस्कटॉप फिल्में लैपटॉप स्क्रीन्स पर दर्शकों के लिए उपलब्ध रहेंगी। डेस्कटॉप फिल्मों के चयन के पीछे यही उद्देश्य है कि अधिक से अधिक फिल्मों को मंच मिल सके। लगभग 95 देशों से आई 2161 फिल्मों में से 219 फिल्में, कॉम्पिटिटीव फिल्मों के रूप में चुनी गई हैं। वहीं 149 फिल्में डेस्कटॉप श्रेणी में चुनी गई हैं। 64 देशों की फिल्मों को चयनित फिल्मों की सूची में शामिल किया गया है।

कॉम्पिटिटीव फिल्मों में चुनी गई फिल्मों की अवधि है 9245 मिनट। वहीं डेस्कटॉप श्रेणी में चयनित फिल्मों की अवधि है 5792 मिनट। डेस्कटॉप स्क्रीनिंग के लिए चयनित फिल्मों में टॉप 11 फिल्में अवॉर्ड के लिए चुनी जाएंगी।

पिछले साल जिफ में - देशों की 217 फिल्मों का चयन हुआ था, जबकि 219 फिल्मों का चयन, पहली सूची में ही हो चुका है। 5 दिसम्बर को नामांकित फिल्मों की दूसरी सूची जारी की जाएगी।

जिफ प्रवक्ता राजेन्द्र बोड़ा ने जानकारी देते हुआ बताया कि प्रतियोगिता के लिए 11 श्रेणियों में चयनित फिल्मों में 45 फीचर फिक्शन फिल्म | 26  डॉक्यूमेंट्री फीचर फिल्म | 85 शॉर्ट फिक्शन फिल्म | 19 शॉर्ट डॉक्यूमेंट्री फिल्म | 10 शॉर्ट एनिमेशन फिल्म | 1 एनिमेशन फीचर फिल्म | 4 मोबाइल फिल्म | 6 वेब सीरीज़ | 16 स्टूडेंट्स फिल्म | 3 एड फिल्म | 4 सॉन्ग आदि शामिल हैं।

जिफ में अमरीका, फ्रांस, जर्मनी, ऑस्ट्रिया, बांग्लादेश, ईरान, क्यूबा, मैक्सिको, चीन, बेल्जियम, फिनलैंड, ताईवान, टर्की, स्विट्जरलैंड्, कनाडा, ब्राजील, अफगानिस्तान, न्यूजीलैंड, नेपाल, कोरिया, श्री लंका, स्वीडन, पाकिस्तान, जापान, पौलेंड, ग्रीस, अर्जेंटीना, कुवैत, डेनमार्क, वेनेजुएला, फिलीपींस और जॉर्जिया सहित कई देशों से फिल्में आई हैं।

जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल में इस मर्तबा यह ख़ास है कि स्क्रीनिंग के लिए चाइना से पहली बार अधिकाधिक फिल्में सब्मिट और नॉमिनेट हुई हैं। इसका श्रेय जिफ की ओर से चीन में किए गए कई कार्यक्रमों को जाता है।

होगा राजस्थानी फिल्म चीड़ी बल्ला का प्रदर्शन

राधेश्याम पिपलवा निर्देशित चीड़ी बल्ला [स्मैश] स्कूल में पढ़ रहे भगत के बारे में है, जिसे किसी तरह अपने स्कूल को बचाना है। चीड़ी – बल्ला खेलने वाले भगत के सामने चुनौती है कि वह राज्य स्तर के बैडमिंटन टूर्नामेंट में अपने स्कूल को जिता सके। राजस्थानी भाषा में बनी एक घण्टे 51 मिनट की यह फीचर फिल्म राजस्थान की कला, खेल और संस्कृति की ख़ासियत बताती हुई आगे बढ़ती है।

अमेरीकन मिररइंटीमेशंस ऑफ इमॉर्टेलिटी एक डॉक्यूमेंट्री और एक्सपेरिमेंट्ल फिल्म है, जो आर्थर बाल्डर के निर्देशन में बनी है। लगभग एक घण्टे लम्बी इस फिल्म में दिखाया गया है कि किस तरह हम सब फेसबुक – इंस्टाग्राम पर अपनी झूठी ज़िंदगियां परोस रहे हैं, जो सच्चाई से कोसों दूर हैं। फिल्म सूजैन सैरनडॉन के अभिनय से सजी है, जो अब तक चार फिल्मों के लिए ऑस्कर अवॉर्ड्स के लिए नॉमिनेट हुई हैं, वहीं एक फिल्म के लिए ऑस्कर जीत चुकी हैं।

नो मैन्स ट्रूथ एक भारतीय फिल्म है, जो मैरिना लिबिक के निर्देशन में बनी है। यह फीचर फिल्म लगभग 2 घण्टे 7 मिनट लम्बी है। नो मैन्स ट्रूथ आज के डिजिटल युग की कड़वी सच्चाईयों के बारे में है, जो एक युवती सुहाना की रहस्यमयी स्थितियों में हुई आत्महत्या के इर्द – गिर्द घूमती है।

चाइनीज़ फिल्म मौज़ेक पौट्रेट ज़ाई यिक्सिएंग के निर्देशन में बनी है। लगभग एक घण्टे 48 मिनट लम्बी यह फीचर फिल्म माइग्रेंट वर्कर एक्सु के बारे में है, जो अपनी 14 वर्षीय बेटी की अचानक हुई प्रेगनेंसी को लेकर परेशान है, और बेटी के स्कूल से लेकर हर जगह इस बारे में जांच पड़ताल में जुटा रहता है।

जर्मनी की फिल्म सन शाइऩ मून सच्चाई और फंतासियों के बीच मंडराती एक फिल्म है। 1 घण्टे 35 मिनट लम्बी यह फीचर फिल्म कार्लो एवेंटी के निर्देशन में बनी है। फिल्म में चाइनीज़ सन और कोरियन मून नामक दो किरदार हैं, जो कई रोचक घटनाओं से गुज़रते हैं।

बॉम्बे रोज़ एक एनिमेशन फिल्म है, जो गीतांजलि राव के निर्देशन में बनी है। एक घण्टे 23 मिनट लम्बी यह फिल्म एक क्लब डांसर के बारे में है, जो चाइल्ड मैरिज से भागती हुई अपने प्रेमी को तलाश रही है। फिल्म के निर्माताओं में आनन्द महेन्द्रा का नाम भी शामिल है।

अमेरीका में बनी फिल्म एलेक्स स्ट्रिप का स्क्रीनप्ले, वर्ष 2016 में जयपुर इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल के को – प्रोडक्शन मीट में डिस्कस किया गया था। अब फिल्म बनने के उपरान्त, फिर से जिफ में स्क्रीनिंग के लिए आई है। इरिनेज़ो नैलेट के निर्देशन में बनी यह फिल्म 121 मिनट लम्बी है।