ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
कामकाजी प्रोफेशनल्‍स और छात्रों के लिए पार्ट-टाइम ऑनलाइन कोडिंग प्रोग्राम शुरू
July 18, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • राष्ट्रीय

नयी दिल्ली : भारत के पहले मिलिटरी स्‍टाइल कोडिंग स्‍कूल, मसाई स्‍कूल ने अपने पार्ट-टाइम फुल-स्‍टैक डेवलपर प्रोग्राम को  लॉन्‍च किया। यह प्रोग्राम छात्रों और कामकाजी प्रोफेशनल्‍स दोनों के लिए ही है - जो फुल-टाइम प्रोग्राम कर पाने में असमर्थ हैं लेकिन नवीनतम वेब डेवलपमेंट टेक्‍नोलॉजिज को सीखकर फुल-स्‍टैक डेवलपर के रूप में अपना कॅरियर बनाना चाहते हैं। यह प्रोग्राम कंप्‍यूटर साइंस और नवीनतम तकनीकों में मजबूत नींव के निर्माण पर केंद्रित है। इसके लिए टेक-आधारित शिक्षा या संबंधित कार्य अनुभव की कोई भी पूर्व आवश्‍यकता नहीं है। इसके लिए मसाई स्‍कूल की वेबसाइट पर पंजीकरण किया जा सकता है। 

30-हफ्ते के इस फुल स्‍टैक वेब डेवलपमेंट प्रोग्राम में 600 घंटे की कोडिंग, 30 घंटे का सॉफ्ट स्किल्‍स, और 60 घंटे का तार्किक क्षमताओं का निर्माण शामिल है। इसके साथ-साथ, इस कोर्स में 20 गेस्‍ट लेक्‍चर्स, 2 डेमो डेज, 2 हैकेथॉन्‍स, 10 प्रोजेक्‍ट्स, 50 चैलेंजेज और 5 मॉक इंटरव्‍यूज शामिल हैं। 

नई पेशकश के लॉन्च पर बोलते हुए, मसाई स्कूल के सह-संस्थापक और सीईओ, प्रतीक शुक्ला ने कहा, “वैश्विक स्तर पर चल रही महामारी ने विरासत उद्योगों और उद्यमों के विकास में तेजी से तेजी लाई है। इस प्रकार, जबकि कई उद्योग संघर्ष कर रहे हैं, डिजिटल परिवर्तन के लिए डेवलपर्स की मांग पहले से कहीं अधिक है। ये स्पष्ट संकेतक हैं कि युवा पेशेवरों को एक अच्छी नौकरी में उतरने और निरर्थक होने से बचने के लिए उद्योग-प्रासंगिक कौशल सीखने की आवश्यकता है। इस कार्यक्रम की शुरुआत के साथ, हम आकांक्षी डेवलपर्स के कौशल सेटों का विस्तार करने के लिए उत्सुक हैं और हम किसी भी बाधा के बावजूद उनकी पूर्ण क्षमता को साकार करने में उनकी मदद करना चाहते हैं।

"उन्होंने आगे कहा," क्या आप पूर्णकालिक किसान बनना चाहते हैं। या बस अपने पोर्टफोलियो में सुधार करें, कोड सीखना एक स्मार्ट कदम है। वास्तव में, पिछले एक साल में, हमने देश भर में मौजूदा कॉलेज के छात्रों और कामकाजी पेशेवरों से बहुत रुचि ली है। और जब उनमें से कई मसाई स्कूल में शामिल होने के इच्छुक थे, वे पूर्णकालिक कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सके। यह सकारात्मक प्रतिक्रिया थी जिसने हमें इस अंशकालिक पाठ्यक्रम को डिजाइन करने के लिए प्रेरित किया।”

कार्यक्रम के पूरा होने पर, छात्रों को पूर्ण स्टैक डेवलपर बनने के लिए आवश्यक कौशल से लैस किया जाएगा। जिस तरह से, स्टूडेंट्स एचटीएमएल और सीएसएस के साथ सबसे गर्म मांग पर जा रहे हैं, सबसे ज्यादा डिमांड टेक स्टैकवॉन जावास्क्रिप्ट- MERN (मानगो, एक्सप्रेस, रिएक्ट, नोड) में होगी। इसके अतिरिक्त, पाठ्यक्रम के एक भाग के रूप में, मसाई स्कूल शिक्षार्थियों को प्लेसमेंट के अवसरों और नौकरी के साक्षात्कार की तैयारी में भी सहायता करेगा।

मसाई स्कूल, जून 2019 में बेंगलुरू में चालू हुआ। वर्तमान में, इसका एक सेंटर पटना में भी है। अभी, मसाई स्कूल की योजना आगामी महीनों में 2000 से अधिक छात्रों को ग्रेजुएट कराने की है। पिछले एक वर्ष में, मसाई स्‍कूल से 6 बैचों के लर्नर्स ने सॉफ्टवेयर डेवलपर्स के रूप में अपना कॅरियर शुरू करने का सपना पूरा किया। इसके तीन कैंपसों में से 2 बेंगलुरू में और एक पटना में है। मसाई स्‍कूल के 55 प्रतिशत से अधिक लर्नर्स नॉन-कंप्‍यूटर साइंस बैकग्राउंड्स के हैं, लगभग 70 प्रतिशत लर्नर्स गैर-महानगरीय शहरों के हैं और 60 प्रतिशत लर्नर्स समाज के आर्थिक रूप से कमजोर वर्गों के हैं। मसाई स्‍कूल इनकम शेयरिंग एग्रीमेंट (आईएसए) मॉडल के जरिए अपने छात्रों में निवेश करता है जहां छात्रों को प्रोग्राम की फीस नौकरी मिलने के बाद ही चुकानी होती है। कोर्स लिंक - https://www.masaischool.com/courses/full_stack_part_time