ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
कोरोना वायरस के कारण अपने बिज़नेस में कोई प्रभाव देखने को नहीं मिला है-विनीत अग्रवाल
March 21, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • बिज़नेस

सात सत्रों तक लगातार गिरने के बाद पिछले दो दिनों में शेयर बाजार ने थोड़ा ठहराव देखने को मिला है। लेकिन इस संक्रमण के विस्तार के कारण बाजार में अस्थिरता देखने को मिली है एंजेल ब्रोकिंग में चीफ फाइनेंशियल ऑफिसर विनीत अग्रवाल ने कोरोना वायरस के प्रकोप के कारण उनके बिज़नेस पर होने वाले असर और कंपनी के ग्रोथ की संभावनाओं पर चर्चा की एंजेल ब्रोकिंग एक मुंबई हेडक्वार्टर आधारित ब्रोकरेज है, जो ब्रोकिंग व एडवाइजरी सर्विसेस, मार्जिन फंडिंग, और शेयर के बदले ऋण मुहैया कराती है।

प्रश्न : कोरोना वायरस के विस्तार का आपके बिज़नेस पर क्या असर पड़ेगा? बाजार में काफी बिकवली देखने को मिली है...

विनीत अग्रवाल: हमें अभी तक कोरोना वायरस के कारण अपने बिज़नेस में कोई प्रभाव देखने को नहीं मिला है। मार्केट निराशाजनक रहा है और इसके कारण अस्थिरता बढ़ी है, लेकिन हमारे लिए अब तक चिंता की कोई बात नहीं है। हमारे वॉल्यूम महीने दर महीने लगातार बढ़ रहे हैं। हालांकि हाल ही में चिंता के कारण बिकवली जरूर देखने को मिली है, लेकिन जल्द ही मार्केट इससे उबर जाएगा। कुल मिलाकर हमारा बिज़नेस पिछली तिमाही की तुलना में बेहतर है।

प्रश्न : कोरोना वायरस के प्रभाव से बचने के लिए क्या योजना तैयार की गई है?

विनीत अग्रवाल: हमारा प्रमुख बिज़नेस मार्केट आधारित है ब्रोकिंग सर्विसेस के अलावा हम क्लाइंट को स्टॉक का चयन करने में मदद करते हैं, जो उनके निवेश की कीमत को बढ़ाता है। लेकिन क्लाइंट को किसी स्टॉक का सुझाव देने में काफी सावधानी रखनी पड़ती है। इसके अलावा शुरुआती असर को रोकने के लिए हमारे पास पर्याप्त साधन हैं।

प्रश्न : क्या ब्रोकरेज इंडस्ट्री में ज्यादा रेग्युलेशन की आवश्यकता है?

विनीत अग्रवाल: स्पष्ट तौर पर कहें तो ब्रोकिंग इंडस्ट्री आज भी बहुत अच्छी तरह से रेग्युलेटेड है। इसके अलावा पिछले कुछ समय में रेग्युलेटर्स कई प्रभावी रेग्युलेशन लागू किए हैं और निकट भविष्य में कुछ और नए नियम लागू हो सकते हैं। एक बड़ी रिटेल इंडस्ट्री होने के नाते इस सेक्टर के लिए रेग्युलेशन अच्छे हैं, जब तक कि वे निवेशकों के लिए व्यावहारिक और फायदेमंद हों।

प्रश्न: ब्रोकरेज बिज़नेस कितना स्थायी है? ब्रोकरेज हाउंस ब्रोकिंग में छूट दे रहे हैं या 0 ब्रोकरेज का विकल्प भी दे रहे हैं

विनीत अग्रवाल: स्टॉक ब्रोकिंग बिज़नेस में ग्रोथ की बेहतर क्षमता है। हम काफी रोचक दौर में हैं। विश्व में अन्य विकसित और विकासशील अर्थव्यवस्थाओं से तुलना की जाए, तो वित्तीय पूंजी में निवेश के मामले में भारत अब भी पीछे है। हालांकि रिटेल सेगमेंट में वॉल्यूम पिछले कुछ वर्षों में तेजी से बढ़ा है और आने वाले कई वर्षों तक इसके बढ़ने के कई कारण हैं। हमारे लिहाज से देखें तो हमें अपने प्लेटफॉर्म में भी वॉल्यूम में बढ़ोतरी देखने को मिली है इंडस्ट्री के डिजिटाइज होने के कारण ही हमें ब्रोकरेज में कमी देखने को मिल रही है। कुछ कड़े नियमों और बिज़नेस मॉडल में बदलाव के कारण इंडस्ट्री में एकीकरण देखने को मिल रहा है।