ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
फुलर्टन इंडिया ने 68,000 से अधिक पशुओं का इलाज किया
December 20, 2019 • नूरुद्दीन अंसारी

नयी दिल्ली - भारत की जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा अपनी आजीविका के लिए पशुधन पर निर्भर है। भारत के एक प्रमुख एनबीएफसी - फुलर्टन इंडिया के पशु विकास डे 2019 ने जमीनी स्तर पर पशुओं को लेकर जागरूकता पैदा करने और ग्रामीण समुदाय को चिकित्सा सहायता प्रदान करने हेतु कार्यक्रम चलाया। पशु विकास डे के इस संस्करण में 14 राज्यों के 500 गांवों से जुड़ी 350 से अधिक जगहों पर एक साथ पशु शिविर आयोजित किये गये। इन शिविरों में 68,000 पशुओं का उपचार किया गया, जिससे 21,000 से अधिक पशुपालक लाभान्वित हुए।  

      

पशु विकास डे के आरंभ के बाद चार वर्षों में, लगभग 2,00,000 पशुओं और 50,000 से अधिक पशुपालकों इस प्रोजेक्ट का लाभ मिल चुका है। संगठन की अनूठी पहल को रेखांकित करते हुए, फुलर्टन इंडिया की मुख्य कार्यकारी अधिकारी और प्रबंध निदेशक, सुश्री राजश्री नाम्बियार ने कहा, ''हम अपने बिजनेस के जरिए सेवावंचितों की आर्थिक आवश्यकताएं पूरी करते हैं और उनकी समस्याओं से निपटने में सहायता प्रदान करते हैं। इसलिए, हमारा विकास कार्यक्रम ग्रामीण समुदायों की आजीविका के साधनों को बेहतर बेहतर बनाने पर जोर देता है - ताकि उनके रहन-सहन का स्तर उच्चतर हो सके और उनकी आमदनी बढ़ सके। देश के भीतरी क्षेत्र में रहने वाले लोगों के लिए पशुधन महत्वपूर्ण है और पशु दिवस डे को इसी उद्देश्य से शुरू किया गया था, ताकि बेहतर जागरूकता और देखभाल के जरिए टिकाऊ विकास हासिल किया जा सके।''

पशु विकास डे पर प्रतिक्रिया जताते हुए, फुलर्टन इंडिया की महाप्रबंधक, हेड - मार्केटिंग और क्रॉस सेल,सुश्री शिल्पा देसाई ने बताया, ''हमने वर्ष 2014 में यह कार्यक्रम शुरू किया और इसके साथ लोग खुशी-खुशी जुड़ते रहे और लगातार जुड़ रहे हैं। पशु विकास डे पशुओं की देखभाल हेतु एक दिन के लिए आयोजित होने वाला शिविर है, जिसे पूरे भारत के विभिन्न जगहों पर आयोजित किया जाता है, जिसमें हमारे कर्मचारी ग्रामीण समुदाय के साथ जुड़कर इसे सफल बनाने का प्रयास करते हैं। हमारे सभी प्रयास और स्थानीय लोगों से मिल रही प्रतिक्रिया ने इसे एक अनूठी पहल का रूप दिया, जिसने हमें समुदाय से और अधिक निकटता से जुड़ने व उनकी सहायता देने का मौका दिया है।''

फुलर्टन इंडिया का पशु विकास डे एक अखिल-भारत प्रोग्राम है, जिसमें स्थानीय पशु चिकित्सकों ने हिस्सा लिया और पशुपालकों को उत्पादकता बढ़ाने, बाजार से बेहतर तरीके से जुड़ने और पशुओं की कुशलतापूर्वक देखभाल से जुड़े पहलुओं के बारे में बताने के साथ-साथ निःशुल्क जांच, औषधियां व टीकाओं के बारे में जागरूकता पैदा की। पशु विकास डे 22 नवंबर, 2014 को शुरू किया गया था, और उसके बाद इसे वर्ष 2015 व 2018 में आयोजित किया गया। फुलर्टन इंडिया को 2015 लिम्का बुक ऑफ रिकॉर्ड्स में भारत में एक दिन के लिए आयोजित किये जाने वाले सबसे बड़े पशु देखभाल शिविर के रूप में स्थान मिला, और वर्ष 2018 में, इसे बेस्ट ऑफ इंडिया रिकॉर्ड्स द्वारा दुनिया के सबसे बड़े सिंगल डे कैटल केयर कैंप का दर्जा दिया गया।