ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
राजस्थान के 1200 स्कूल शिक्षकों ने ब्राइट ट्यूटी के ऑनलाइन सत्र में भाग लिया
May 13, 2020 • नूरुद्दीन अंसारी • राष्ट्रीय

नयी दिल्ली . राजस्थान के विभिन्न निजी और राज्य बोर्ड स्कूलों के लगभग बारह सौ स्कूली शिक्षकों ने ब्राइट ट्यूटी के एक लाइव सत्र में भाग लिया। यह नई दिल्ली स्थित एक एडू-टेक कंपनी है और भारत के सबसे तेजी से बढ़ते ऑनलाइन लर्निंग प्लेटफॉर्म में से एक है, जिसका राजस्थान, हरियाणा और नागालैंड राज्य शिक्षा बोर्डों के साथ टाई-अप है।

इन स्कूलों को लॉक डाउन से भारी समस्या का सामना करना पड़ रहा है और उम्मीद है कि जून तक इनके स्कूल बंद रहेंगे। ऐसे समय में, यह सुनिश्चित करना कि छात्र अपने पाठ्यक्रम में पिछड़े नहीं, ब्राइट ट्यूटी जैसे प्लेटफार्मों उनकी मदद के लिए आगे आये है, जो छात्रों को सही पाठ्यक्रम की अध्ययन सामग्री प्रदान करते है। 

"हमने आज तक ऑनलाइन पढाई के उपयोग के बारे में कभी नहीं सोचा था। यह अब तक बोझिल और एक कठिन काम लगता था। पहले बहुत सारे प्लेटफॉर्म थे जो या तो एक बहुत बड़ी राशि लेते थे या केवल आकर्षक वीडियो प्रदान करते थे लेकिन पाठ्यक्रम के अनुसार नहीं पढ़ाते थे। लेकिन ब्राइट ट्यूटी के इस सत्र में हमने जो देखा वह बहुत ही आशाजनक लग रहा है" शशांक टोंक, जो कि आलोक सीनियर सेकेंडरी स्कूल, उदयपुर में एक शिक्षक हैं।

"वैश्विक कोरोना महामारी के कारण बंद होने वाले स्कूलों के साथ, हम अपने लर्निंग प्लेटफॉर्म पर छात्रों की संख्या में वृद्धि देख रहे हैं। यह सुनिश्चित करने के लिए कि छात्र सुरक्षित रहें और अपने घरों की सुरक्षा से सीख सकें, हमने फैसला किया है की हमारे पाठ्यक्रम का जून तक मुफ्त में सभी स्कूलों उपयोग कर पाए, ”अनंत गोयल, ब्राइट टुटी के सह-संस्थापक कहते हैं। अब, ब्राइट टुटी का उद्देश्य अगले 2 हफ्तों में 10,000 से अधिक शिक्षकों की मदद करना है, जो इस मुफ्त में उपलब्ध सामग्री का उपयोग करके अपनी कक्षाओं को ऑनलाइन स्थानांतरित कर सकते हैं। इस प्रकार, भले ही यह समय सब शिक्षा उद्योग और छात्रों के साथ ठीक नहीं है, लेकिन स्कूल और शिक्षकों के लिए जैसे इस सुरंग के अंत में एक उज्ज्वल प्रकाश दिखाते हुए, ब्राइट टुटी खड़ा है। ऐसे डिजिटल एडटेक प्लेटफार्मों द्वारा, भारतीय शिक्षक यकींनन छात्रों और स्कूलों को पटरी पर ला पाएंगे।