ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
सेंसेक्स की 986 अंकों की रैली; निफ्टी 3% चढ़कर 9,266 पर बंद हुआ
April 19, 2020 • अमर देव सिंह • बिज़नेस

लेखक - अमर देव सिंह, हेड एडवायजरी, एंजिल ब्रोकिंग 

भारतीय शेयर बाजारों के कारोबार में सेंसेक्स और निफ्टी दोनों में 3% से अधिक की तेजी देखने को मिली। आरबीआई की  ने कोरोनावायरस की दवाई के तौर पर 'रीमेडिसविर' सामने आने की खबरों के साथ बाजार में सकारात्मक चिंगारी पैदा की। इसके अलावा भारत सरकार प्रोत्साहन पैकेज को अंतिम रूप दे रही है जिसकी घोषणा सप्ताहांत में कभी भी की जा सकती है। इन सभी घटनाओं ने बाजार के लिए बहुत आवश्यक गति उत्पन्न की और नकारात्मकता को पीछे छोड़ दिया।

आरबीआई की घोषणाः  कारोबारी घंटों के दौरान कुछ सबसे अच्छी खबरें आरबीआई से आईं। नियामक ने कोरोनोवायरस के आर्थिक प्रभाव को कम करने के लिए कई उपायों की घोषणा की और संबंधित मुद्दों पर आवश्यक स्पष्टता भी दी। इन उपायों में 50,000 करोड़ रुपए एलटीआरओ इंजेक्शन, रिवर्स रेपो दर में 25 बेसिस अंक की कटौती, और राज्यों के लिए वेज एंड मींस एडवांसेस (डब्ल्यूएमए) सीमा 60% तक बढ़ने की बातें शामिल हैं। यह भी स्पष्ट किया कि 90-दिवसीय एनपीए नॉर्म मॉरेटोरियम के तहत दिए गए क्रेडिट पर लागू नहीं होगा और अचल संपत्ति कंपनियों को दिए गए एनबीएफसी लोन पर भी शैड्यूल कमर्शियल बैंकों वाणिज्यिक बैंकों द्वारा प्राप्त लाभ बराबरी से दिए जाएंगे। 

बैंक और रियल्टी रैली  आरबीआई की घोषणा के बाद बैंकिंग, एनबीएफसी और रियल्टी सेग्मेंट में अच्छी रैली देखी गई। निफ्टी बैंक 6.61% बढ़कर बंद हुआ जबकि निफ्टी रियल्टी भी 3.59% उछला। दोनों सूचकांकों में शामिल 100% स्टॉक आगे बढ़ते दिखे। एसएंडपी बीएसई फाइनेंस में 98 स्टॉक आगे बढ़े और सिर्फ 12 में गिरावट देखी गईं। इंडेक्स के भीतर इक्विटास होल्डिंग्स 21.15%, जेएंडके बैंक 19.95% और इंडियाबुल्स हाउसिंग फाइनेंस ने 17.61% की बढ़त के साथ रैली की। रियल्टी सेगमेंट में, ओबेरॉय रियल्टी ने 13.05% की वृद्धि की, जबकि अन्य स्टॉक जैसे सोभा, इंडियाबुल्स आरई, एचडीआईएल, और सनटेक रियल्टी ने 4% और 5% के बीच उछाल मारी। 

1992 के बाद पहली बार चीनी अर्थव्यवस्था में सिकुड़न हमारी पड़ोसी अर्थव्यवस्था चीन और कोविड-19 के प्रकोप का एपिसेंटर की मैक्रो-इकोनॉमिक तस्वीर भी सामने आई। चीन की अर्थव्यवस्था भी कोरोनोवायरस-प्रेरित लॉकडाउन और प्रोडक्शन-हॉल्ट के प्रत्यक्ष प्रभाव के रूप में सिकुड़ गई। 1992 के बाद यह पहली बार है कि चीनी अर्थव्यवस्था ने नकारात्मक तिमाही वृद्धि दर दी है। जारी किए गए आंकड़ों ने संकेत दिया है कि वित्त वर्ष 2020 की अंतिम तिमाही में जीडीपी की वृद्धि दर में 6.8% गिरावट दर्ज की गई है।

सेबी ने चीनी निवेश की जांच बढ़ाई  महत्वपूर्ण घटनाक्रम के तौर पर सेबी ने गुरुवार को ऑफशोर फंड्स को वर्गीकृत करने का अनुरोध किया, जिसमें पाकिस्तान, उत्तर कोरिया, ईरान, ताइवान, म्यांमार और अन्य एशियाई देशों में स्थित ‘बेनेफिशियल ऑनर’ हो सकते हैं। यह संभवतः चीनी सरकार द्वारा समर्थित भी हो सकते हैं। यह कदम इस सप्ताह के शुरू में चीनी और हांगकांग-बेस्ड एफपीआई की जांच के फॉलोअप के तौर पर सामने आया है। 
सभी नजरें अब राहत पैकेज परः  मोदी सरकार अब भारतीय जनता और कॉर्पोरेट की चुनौतियों का सामना करने के लिए आर्थिक राहत पैकेज को अंतिम रूप दे रही है। पैकेज की घोषणा वीकेंड में कभी भी होने की संभावना है।