ALL राष्ट्रीय अंतर्राष्ट्रीय बिज़नेस मनोरंजन साहित्य खेल वीडियो
यूनेस्को की महानिदेशक ऑड्री एजोले ने लड़कियों के शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए भारत की सराहना की
February 7, 2020 • क़ुतुब मेल • अंतर्राष्ट्रीय

नयी दिल्ली - शिक्षा के क्षेत्र में भारत द्वारा उठाए गए कदमों पर चर्चा की थी। पोखरियाल ने यूनेस्को की महानिदेशक को बताया कि भारत में लड़कियों का पंजीकरण औसत पहली बार लड़कों के पंजीकरण औसत से बढ़ गया है। सुश्री एजोले ने इस बात पर संतोष जाहिर किया कि भारत सतत् विकास लक्ष्यों को प्राप्त करने की दिशा में काम कर रहा है।

यूनेस्को की महानिदेशक सुश्री ऑड्री एजोले ने लड़कियों की शिक्षा को प्रोत्साहन देने के लिए भारत की सराहना की है। भारत की तीन दिवसीय सरकारी यात्रा पर आई सुश्री एजोले ने कहा कि भारत ने महात्मा गांधी की विरासत के जरिए यूनेस्को के उद्देश्यों और उसके विज़न को प्रभावित किया है। उन्होंने भरोसा जताया कि भारत और यूनेस्को इन साझा मूल्यों और उद्देश्यों के आधार पर अपने रिश्ते और मजबूत बनाएंगे। मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल ‘निशंक’ से अपनी मुलाकात के बारे में उन्होंने कहा कि हमारी चर्चा बहुत सकारात्मक रही और यह जानकार मुझे प्रसन्नता हुई कि भारत में समाज के हर वर्ग तक बेहतर शिक्षा पहुंचाने के शानदार प्रयास किए जा रहे हैं।

 निशंक ने कहा कि 2030 तक भारत सतत् विकास लक्ष्य प्राप्त करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने बताया कि भारत यूनेस्को के उद्देश्य के तहत सबके लिए बेहतर शिक्षा उपलब्ध कराने की दिशा में काम कर रहा है। निशंक ने यह भी बताया कि नई शिक्षा नीति तैयार की जा रही है और इस समय सभी हितधारकों के साथ परामर्श प्रक्रिया चल रही है। उन्होंने बताया कि भारत विदेश में योग और आयुर्वेद के पाठ्यक्रमों को प्रोत्साहन देने की इच्छा रखता है और यूनेस्को इस दिशा में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है।

बैठक के दौरान पोखरियाल और सुश्री एजोले ने महात्मा गांधी शांति और सतत् विकास शिक्षा संस्थान (एमजीआईईपी) को अगले पांच वर्षों का विस्तार देने के लिए संचालन समझौते पर हस्ताक्षर किए। एमजीआईईपी नई दिल्ली आधारित यूनेस्को का वर्ग-1 अनुसंधान संस्थान है।